दुनिया के पच्चीसबे सबसे अमीर व्यक्ति ली शौ-की / Richest person in world


ली शौ-की

वह हांगकांग के सबसे बड़े रियल एस्टेट डेवलपर्स हैं ली वर्तमान में  31.6 बिलियन डॉलर (लगभग बीस हजार करोड़ रूपये) की संपत्ति के साथ हांगकांग और ग्रेटर चीन क्षेत्र में दूसरे सबसे धनी व्यक्ति हैं। दुनिया के पच्चीसबे सबसे अमीर व्यक्ति है ।

बचपन

  ली शौ-की  उनका जन्म चीन के गुआंगडोंग में सन 1928 हुआ था। अब वह 90 बर्ष के है । ली शौ-की  पांच भाई-बहन मे चौथे नंबर पे हैं  ली शौ-की की परवरिश एक गरीब परिवार में हुई, जो महीने में केवल दो बार ही विशेष रूप से खाना खा सकते थे। उनका बचपन गरीबी में गुजरा। उनकी बचपन से  तीब्र  बुद्धि  सीखने में गहरी दिलचस्पी  थीं। ज़िस  के   दम पर  है वे हमेशा जीबन मे आगे बढ़ते रहे।

बिजनेस स्टार्टअप

सबसे पहले  इन्होंने  चीन  के गुआंगडोंग में इम्पोर्ट  एंड एक्सपोर्ट  डिपार्टमेन्ट  में काम करना शुरू किया , जिस मे  उन को इम्पोर्ट  एंड एक्सपोर्ट  का अच्छा खासा एक्सपीरियंस हो गया। और इन्होंने इम्पोर्ट  एंड एक्सपोर्ट में काफी काम किया और  बहुत मुनाफा कमाया और इसी बीच दूसरा विश्व युद्ध शुरू हो गया । ली ने दूसरे  विश्व युद्ध के बाद अपना खुद का व्यवसाय को  बढ़ाना चाहा,  इसके बाद बे हांगकांग चले गये। 1948 में  वे हांगकांग पहुंचे और रियल एस्टेट मार्केट में काम किया। उन्होंने हांगकांग इटरनल एंटरप्राइज कंपनी के अन्य इन्वेस्टर के साथ मिलकर एक रियल एस्टेट एजेंट की स्थापना की, जो उन्हें अपने पहले सौदों  करने की अनुमति दे देता  है। और लगातार कई तरह की योजनओं में  इन्वेस्टमेंट की और मंजिल दर मंजिल आगे चलते गए। और कभी  पीछे मुड़ कर नहीं देखा।

      उन्होंने 1976 में  लैंड डेवलपमेंट का  काम शुरू किया। और  हेंडरसन लैंड डेवलपमेंट की  संस्थापक की , जो  की  होटल, रेस्तरां, संपत्ति और इंटरनेट सेवाओं का बहुत एक  बड़ा समूह है। ली ने इसके बाद शेयर मार्किट में इन्वेस्टमेंट किया और मुनाफा कमाया। धीरे -धीरे करके पेट्रो एनर्जी में बड़ी कंपनियों का अधिग्रहण कर लिया। उनके ज्यादातर बिजनेस स्टार्टअप मे पॉपर्टी, शेयर मार्किट  और पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स पर आधारित है।   

उनके जीबन की उपलब्धि

यह उनकी तीब्र  बुद्धि और साहस  के दम  पर ही इतने लंबे और निरंतर समय के लिए व्यावसायिक क्षेत्र में सफलता पाने में सफल रहे हैं। उनके पास बड़ी संख्या में उन्नत परियोजनाएं हैं जिनमें अंतर्राष्ट्रीय वित्त केंद्र, द ग्रांड प्रोमेनेड और 39 कोंडिट रोड शामिल हैं, जो एशिया में निर्माण की सभी प्रतिष्ठित बिल्डिंगस हैं। उन्होंने हांगकांग और चाइना गैस कंपनी लिमिटेड का भी टेकओवर किया, जो हांगकांग की गैस सप्लाई का लगभग 85% हिस्सा है।

1993 में, डॉ। ली-शौ की को चीनी विश्वविद्यालय में सोशल साइंस में डॉक्टर की उपाधि से सम्मानित किया गया।

ली शौ-की के विचार

“युवा अवस्था में उनके जीबन में सबसे पहले बिज़नेस, दौलत , स्वास्थ्य  और  आखिर मे परिबार था

             अब यह क्रम  स्वास्थ्य,  परिबार, बिज़नेस और आखिर मे दौलत हो गया है ….”

परोपकारी समर्पण

उन्होंने वर्षों में शिक्षा की ओर $ 400 मिलियन (लगभग 2815 करोड़ रूपये) का दान दिया। ली शौ-की    निवेशकों को सही तरीके से सलाह देने के लिए प्रसिद्ध है और यहां तक ​​कि लोगों को अपनी कंपनी में निवेश नहीं करने की चेतावनी भी देते है

सारांश

  • अपनी उम्र के बावजूद  सीखने में गहरी दिलचस्पी  है  उनकी सीखने की वहुत कहानी हांगकांग के साथ-साथ दुनिया भर में  प्रसिद्ध है।
  • सही और सोच कर किए गये इन्वेस्टमेंट इंसान को आगे बढ़ने अग्रसर करती है।
  • जिंदगी में स्वास्थ्य का महत्ब सबसे पहले है उनके 90 बर्ष में काम करना प्रेरणा है।


दुनिया के चौबीसबें सबसे अमीर व्यक्ति के बारे में जानने लिये क्लिक करें https://primeindiacorp.com/%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%88-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%a8-hui-ka-yan/

Primeindiacorp.com प्राइम इंडिया कॉर्प यहाँ पर हम सफल कैसे बने  जानने की कोशिश करेंगे की और लोगों ने ऐसा क्या किया की वे इतने  सफल  हुए।  उम्मीद करते है की हमारा काम पसंद आये।  कॉमेंट बॉक्स मे अपने सुझाब लिख कर  बताये।  जय हिन्द।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *